मंगलवार, 28 अप्रैल 2009

रिश्ते

लोग ......
जो हर रिश्ते का एक नाम चाहते हैं ,
नहीं जानते ........कि कुछ रिश्ते ,
बिना नामों के
सदियों से
चलते रहे हैं ,पलते रहे हैं
ये रिश्ते हो सकते हैं किसी के भी बीच
जैसे ...
मनुष्य और मनुष्य के बीच
मनुष्य और पृकृति के बीच
मनुष्य और जानवर के बीच
मतलब ये
के किसी भी तरह के हो सकते हैं ये अनाम रिश्ते

आप ही बताइए ...?
कि लोग ....
जो हर रिश्ते का एक नाम चाहते हैं
क्या नाम देंगे ....?
कोयल और अमराई के रिश्ते को
क्या नाम देंगे ...?
उमंग और तरुणाई के रिश्ते को
क्या नाम देंगे ....?
बसंत और फूलों के रिश्ते को
क्या नाम देंगे ...?
सावन और झूलों के रिश्ते को
लोग .......
जो हर रिश्ते का एक नाम चाहते हैं

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब - कविता का भाव पसंद आया। हर रिश्ते को नाम नहीं दिया जा सकता, कुछ रिश्ते "वैसे ही" अच्छे रहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह एक सोच और विचार को किस तरह रचना का रूप दिया है ....बहुत अच्छा लगा मुझे

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर और गहरे विचार.........बढ़िया रचना............अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही बात है, रिश्तों को नाम की ज़रुरत नहीं होती.

    उत्तर देंहटाएं
  5. seema ji

    bahut acchi rachna ..

    sach hai ,kuch rishto ka koi naam nahi hota , naam ki jarurat bhi nahi hoti hai .. bus wo rishta hota hai ,jisme zindagi saans leti hai , yahi kaafi hai ji..

    aapki is rachna ke liye badhai ..

    vijay
    poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. लाजवाब................रिश्तों को बिलकुल नए अंडज में लिखा है आपने............वैसे तो सचमुच हर रिश्ते का नाम नहीं दिया जा सकता...............कई रिश्ते अनजाने में ही दिल से बांध जाते हैं..........आप की रचना नए आयाम खोलती है

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सबके प्यार के लिए आभार बहुत छोटा सा शब्द है पर मुझे इसके अलावा कोई और शब्द नहीं आता .आप सबकी ह्रदय से आभरी हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोयल और अमराई के रिश्ते को
    क्या नाम देंगे ...?
    सुखद एहसास को रिश्तों में बांधना उस एहसास के आनंद को सीमित कर देता है और उस असीम के परम आनंद से वंचित कर देता है !बहुत सुन्दर रचना है आपकी !

    उत्तर देंहटाएं