बुधवार, 20 जनवरी 2010

लो बसंत आ गया


मित्रों , एक पूरा साल आप लोगों की दोस्ती में कब बीता पता ही नहीं चला और फिर से बसंत का मौसम आगया .हमारे शहर में कड़ाके की ठण्ड के बीच भी अनंग सखा बसंत ने अपनी आमद दर्ज करा ही दी है ,जिसका प्रमाण बौरों से भरे हुए आम के वृक्षों ने दे दिया है .आज बसंत पंचमी है ,ऋतुराज बसंत के आने का संकेत .शीत से ठिठुरती हुई प्रकृति में नव प्राणों का संचार होने लगा है .वृक्षों ने पत्ते बदलना प्रारंभ कर दिया है ताकि नए रंगीन पत्तों और फूलों के साथ बसंत का स्वागत कर सकें .जब प्रकृति नई ऋतू के स्वागत में प्रसन्न है तो भला हम क्यों पीछे रहे ...?आप सब भी नए उत्साह से ,नई आशाओं के साथ बसंत का स्वागत करें इन्ही शुभेच्छाओं के साथ आप सब को ------ बसंत पंचमी की भीनी भीनी सुगंध भरी शुभकामनायें

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपको भी बसंत पंचमी और सरस्वती पूजन की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुस्वागतम्!
    --
    "सरस्वती माता का सबको वरदान मिले,
    वासंती फूलों-सा सबका मन आज खिले!
    खिलकर सब मुस्काएँ, सब सबके मन भाएँ!"

    --
    क्यों हम सब पूजा करते हैं, सरस्वती माता की?
    लगी झूमने खेतों में, कोहरे में भोर हुई!
    --
    संपादक : सरस पायस

    उत्तर देंहटाएं
  3. वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बसंत पंचमी की शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको बसंत पंचमी की बहुत बहुत शुभकमनाएँ .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. basant ki aamad ne
    aap ke aane ki dastak bhi to di hai
    khush-aamdeed....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऋतुराज बसंत के आने का संकेत ..these flowers are symbol of spring...

    उत्तर देंहटाएं