मंगलवार, 15 जून 2010


गुलमोहर के रंग फीके हैं यहाँ पर ,
तुम नहीं हो .
धूप के भी तीर तीखे हैं यहाँ पर ,

तुम नहीं हो .

तुम नहीं हो, और ये लम्बी दोपहरी
आँख की कोरों पे आके बूँद ठहरी .
कब गिरेगी, ना गिरेगी कौन जाने ?
कौन उंगली पर सम्हाले ....?

तुम नहीं हो .
गुलमोहर के रंग फीके हैं यहाँ पर ,
तुम नहीं हो .

तुम नहीं हो .......शाम थक जाती है अक्सर
फिर धधकती सेज पर सोती है थककर
सोचती हूँ रात गहरी है ? ..... के मेरी पीर गहरी ?
कौन सीने से लगा ले .........?

तुम नहीं हो .
धूप के भी तीर तीखे हैं यहाँ पर ,
तुम नहीं हो .

तुम नहीं हो भोर का पहला पहर है
कहीं सोया, कहीं जागा सा शहर है
एक लम्बी सी सड़क पर चल रही हूँ मैं अकेली .
कौन मेरा हाथ थामे .....?

तुम नहीं हो .

तुम नहीं हो ,प्रणय पथ का ये अनोखा ही सफ़र है
मैं यहाँ और दूर कितना हमसफ़र है
दूर रहकर साथ चलना ,साथ रहकर दूर होना .
कौन समझेगा ये रोना ...?

तुम नहीं हो

14 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन्तजार के ताने-बाने पर बुनी ..सुन्दर शब्द चयन और आकर्षक भावों को अभिव्यक्त करती बेहतरीन कविता...शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "तुम नहीं हो .......शाम थक जाती है अक्सर
    फिर धधकती सेज पर सोती है थककर
    सोचती हूँ रात गहरी है ? ..... के मेरी पीर गहरी ?
    कौन सीने से लगा ले .........?"
    शब्द और भावों का अच्छा संगम

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचना....

    iisanuii.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर शब्द चित्र खींचा है आपने
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  6. सीमा जी ;
    नमस्कार.
    बहुत दिनों बाद आपकी कविता पढने को मिली. और हमेशा की तरह आपने प्रकृति के माध्यम से नायिका के मन की बात को बहुत ही अच्छे शब्दों के द्वारा अपनी इस सुन्दर कविता में प्रस्तुत किया है .. आपको दिल से बधाई .. विरह की व्यथा को इतनी अच्छी तरह से उजागर करने की क्षमता सिर्फ आप में ही है जी .......आभार और बधाई....और आपसे ये भी निवेदन है की ,मैंने भी पिछले दिनों एक -दो कविता लिखी है , अगर आपका आशीर्वाद मिल जाए तो बहुत कृपा होंगी . धन्यवाद्...!

    उत्तर देंहटाएं